मध्यप्रदेश में किसान सम्मेलन में बोले PM मोदी- ‘MSP नहीं होगी बंद, हम बातचीत के लिए तैयार’

0
244

ब्यूरो: एक तरफ दिल्ली बॉर्डर पर किसान नए कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं। दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्यप्रदेश के किसानों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने विपक्ष को जमकर आड़े हाथों लिया।

PM मोदी के संबोधन की कुछ अहम बातें
किसानों को उन लोगों से जवाब मांगना चाहिए जो लोग अपने घोषणापत्र में सुधारों के वादे तो करते रहे, पर मांगों को टालते रहे, क्योंकि किसान प्राथमिकता में नहीं था।

पुराने घोषणापत्र देखे जाएं, पुराने बयान सुने जाएं तो आज जो कृषि सुधार किए गए हैं, वे वैसे ही हैं, जो बातें कही गई थीं। उनको पीड़ा इस बात की है कि जो हमने कहा, वो मोदी ने कैसे कर दिया। मोदी को क्रेडिट कैसे मिला? मैं कहता हूं कि सारा क्रेडिट अपने पास रख लीजिए, लेकिन किसानों को आसानी रहने दीजिए।

सरकार बार-बार पूछ रही है कि किस क्लॉज में दिक्कत है, बताइए। इन दलों के पास इसका कोई जवाब नहीं है। किसानों की जमीन चली जाएगी, इसका डर दिखाकर अपनी राजनीति चमका रहे हैं। जब उन्हें सरकार चलाने का मौका मिला था तब उन्होंने क्या किया, ये याद रखना जरूरी है।

वो किसान जिन्हें नए कानूनों को लेकर जो आशंका बची है, वे समझें और भ्रम फैलाने वालों से सावधान रहें। मेरे कहने के बाद, सरकार के प्रयासों के बाद अगर आपके मन में शंका है, तो हम सिर झुकाकर, विनम्रता से बात करने के लिए तैयार हैं। किसान का हित हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। 25 दिसंबर को अटल जी के जयंती के मौके पर फिर इस विषय पर किसानों से बात करूंगा।