इस बार मनाएं Green Diwali, जानिए क्या होते हैं ग्रीन पटाखे?

0
16

 ब्यूरो : देश में दिन प्रतिदिन वातावरण प्रदूषित हो रहा है इसलिए इस बार दिवाली पर ग्रीन पटाखों की बातें हो रही हैं, क्योंकि ग्रीन पटाखों से धुंआ कम निकलता है, वातावरण प्रदूषित कम होता है और आवाज ज्यादा तेज नहीं होती है, जिससे आंखों और कानों को नुकसान भी कम ही होता है।

दरअसल ग्रीन पटाखों की खोज भारतीय संस्था राष्ट्रीय पर्यावरण अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (नीरी )ने की। इन पटाखों की खासियत ये है कि ये धूल को सोख सकते हैं। साथ ही इन पटाखों से होने वाला उत्सर्जन लेवल भी बेहद कम है, क्योंकि इनसे निकलने वाला धुआं हानिकारक नहीं है और ये जलने पर 50 फीसदी तक कम प्रदूषण करते हैं।

बता दें कि आम पटाखों से बहुत अधिक धुंआ निकलता हैं और आवाज भी बहुत तेज होती है, जो सरकारी मानक डेसिबल की तुलना में कई ज्यादा होती है।

यह भी पढ़ें   HP Cabinet Decision: विधानसभा का शीतकालीन सत्र रद्द करने की सिफारिश, सामाजिक समारोह के लिए लेनी होगी परमिशन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here