नाग पंचमी पर कालसर्प दोष दूर करने का बन रहा दुर्लभ योग, करें ये उपाय

0
257

ब्यूरो: सावन का महीना आते ही व्रत-त्यौहारों का सिलसिला शुरू हो गया है। कोराना काल में होली से लेकर अब तक एहतियात के चलते सीमित अंदाज में त्यौहार मनाए जा रहे हैं। हर बार की तरह इस सावन के महीने में नाग पंचमी भी मनाई जाएगी।

नाग पंचमी का त्योहार श्रावण शुक्ल पंचमी तिथि को मनाया जाता है। शास्त्रों में नागों को पाताल का स्वामी बताया गया है। नाग पंचमी के दिन भगवान शिव के आभूषण नागों की पूजा की जाती है। इस बार नाग पंचमी का पर्व 25 जुलाई को मनाया जाएगा।

इस दिन एक खास दुर्लभ योग बन रहा है जो कालसर्प दोष निवारण के लिए बहुत ख़ास है। कुंडली में कालसर्प दोष के होने पर व्यक्ति को जीवन में कई सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

कालसर्प दोष से पीड़ित व्यक्ति के जीवन में विवाह में अड़चन, दांपत्य जीवन में कलले शिक्षा में बाधा, रोग चोट से परेशान रहना, आर्थिक तंगी, नौकरी छूटना, सैतान को कष्ट जैसी समस्याएं आती रहती हैं।
इस बार नाग पंचमी के दिन कालसर्प दोष निवारण का दुर्लभ योग बन रहा है जो इस दोष से आसानी से छुटकारा दिला सकता है। ये योग उत्तरा फाल्गुनी और हस्त नक्षत्र के प्रथम चरण में बन रहा है। इसके अलावा इस दिन परिगणित और शिव नामक योग भी बन रहा है। ये सारे योग इस बार की नागपंचमी बहुत शुभ बना रहे हैं।

जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष हैं उन्हें नागपंचमी के दिन व्रत रखना चाहिए और नाग देवता की पूजा जरूर करनी चाहिए। नागपंचमी के दिन नागों की पूजा के साथ भगवान शिव और माता पार्वती की भी पूजा करें।

मिट्टी के नाग-नागिन बनाकर उनकी दूध, धान, धान का लावा, दूर्वा, अक्षत, पान आदि से पूजा करें इससे नाग देवता के साथ महादेव की भी कृपा प्राप्त होगी। नागपंचमी के दिन नारियल पर नाग और नागिन का चांदी का जोड़ा बनाकर मौली से लपेटकर नदी में बहाएं।