हिस्ट्री शीटर विकास दुबे का ‘खेल’ खत्म, सरेंडर से लेकर एनकाउंटर तक की इनसाइड स्टोरी

0
210

ब्यूरो: उत्तरप्रदेश में कानपुर के बिकरू गांव में सीओ सहित आठ पुलिस वालों की हत्या करने वाले पांच लाख का इनामी विकास दुबे एनकाउंटर में ढेर हो गया है। एसटीएफ गाड़ी उसे कानपुर ला रही थी। पुलिस के मुताबिक बर्रा के पास अचानक रास्‍ते में गाड़ी पलट गई। उसने मौका पाकर SDF के एक अधिकारी की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की।

एसटीएफ ने विकास से हथियार रखकर आत्मसमर्पण करने को कहा। लेकिन इसके बावजूद वह नहीं माना तो पुलिस को मजबूरन एनकाउंटर करना पड़ा। एनकाउंटर में गोली लगने के बाद हिस्ट्री शीटर विकास दुबे को एनकाउंटर में मार गिराया गया।
कानपुर में गैगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद इस मुठभेड़ में घायल पुलिसकर्मी को लाला लाजपत राय अस्पताल लाया गया है। पुलिस के मुताबिक इस मुठभेड़ में कुल 4 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

विकास दुबे को कल उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया था। विकास दुबे ने महाकाल मंदिर के गार्ड से चिल्ला- चिल्लाकर कहा था कि जानते हो मैं विकास दुबे हूं कानपुर वाला। इसके बाद महाकाल के सुरक्षा गार्डों ने तत्परता दिखाते हुए उसे पकड़कर मध्यप्रदेश पुलिस के हवाले कर दिया। वारदात के बाद से फरार विकास यूपी, दिल्ली, हरियाणा और मध्य प्रदेश पुलिस को चकमा देकर दर्शन करने मंदिर पहुंचा था।

मध्यप्रदेश पुलिस को इंटेलिजेंस से कुख्यात अपराधी विकास दुबे के उज्जैन आने की सूचना मिली थी। इसी आधार पर महाकाल थाना पुलिस ने विकास की गिरफ्तारी की है।

इस कार्यवाही के बाद गैंगस्टर विकास दुबे की मां का बयान आया। उसने कहा कि हर साल मेरा बेटा उज्जैन मंदिर जाता था और श्रृंगार करवाता था। भोले बाबा ने मेरे बेटे की जान बचाई है। सरकार बेटे की जान बख्श दे।

गिरफ्तारी के बाद विकास से पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में पूछताछ की गई। इसके बाद उसे मध्यप्रदेश पुलिस ने यूपी SDF को सौंप दिया था। विकास से मध्यप्रदेश पुलिस ने आठ घंटे तक पूछताछ की। इस दौरान उसने कई चौंकाने वाले खुलासे किए।

विकास ने पुलिस को बताया कि घटना के बाद घर के ठीक बगल में कुएं के पास पांच पुलिसवालों की लाशों को एक के ऊपर एक रखा गया था जिससे उनमें आग लगाकर सबूत मिटाने की योजना थी। पुलिसकर्मियों के शव जलाने के लिए तेल लाए थे। लेकिन शव इकट्ठे करने के बाद उसे मौका नहीं मिला। उसने खुलासा किया कि हमें खबर थी पुलिस सुबह आएगी, लेकिन पुलिस सुबह की बजाय रात में ही दबिश देने आ गई।

साथ ही पूछताछ में उसने खुलासा किया कि चौबेपुर के अलावा कई थानों में मेरे मददगार थे। आगे उसने कहा कि एनकाउंटर के डर से फायरिंग की। विकास ने पूछताछ में कई बड़े चौंकाने वाले खुलासे किए थे। इसके बाद देर शाम को मध्य प्रदेश पुलिस ने विकास को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

इस दौरान उज्जैन के एसपी मनोज कुमार सिंह ने कहा कि विकास दुबे को मध्यप्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार किया है। विकास ने महाकाल मंदिर में 250 का टिकट लिया। कई खुलासो के बाद मध्यप्रदेश पुलिस ने विकास दुबे को यूपी एसटीएफ के हवाले कर दिया था। 

इससे पहले गुरुवार की रात को विकास की पत्नी और बेटे को भी यूपी एसटीएफ ने लखनऊ से पकड़ लिया था। आरोपी विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे उर्फ सोना व उनके बेटे को एसटीएफ ने लखनऊ कृष्णा नगर के नारायण पुरी मोहल्ले में एक खाली प्लाट के पास से गिरफ्तार किया गया था।